Archive for the ‘Uncategorized’ Category

ચૌર્યાસી જ્ઞાતીના બ્રાહ્મણોની યાદી ૧ અનાવલા ૨ અભીર ૩ આપસ્તંભ ૪ અક્ષપમંગલા ૫ અગસ્તપાલ ૬ આક્ષષાપન ૭ ઇન્દ્રાવલ ૮ ઉદબરા ૯ ઉત્કલ ૧૦ ઓદિચ્ય ૧૧ ઉનેવાળ ૧૨ કણ્ય ૧૩ કનોજીવા કરોડા કરખેશિયા કગંકા કાનડી કાર્તક કરીવંત કડોળીયા કપીસા ખંડેવાળ ખેડાવાળ ખોડાવાળ ગયાવાળ ગિરનાર ગુગલી ગોવર્ધનના ગૌડ ગામતીપાત ગંગાપુત્ર ગૌધન ચરક ચૌનાપાવન ચૌલા ચૌવિશા કંજુશિયા કશોર કશીર કમોદર તપોધન તિગંગા દાવોડી દિશાવળ પીનારા નાગર નંદવાણા પુંદવાગ પારાસરા પાંડે પારપાસિયા પુષ્કરણા પાણીવાલ […]

Categories: Uncategorized

essay writers names Your tutors at MPowerLearning.com are project specialists having served quality jobs are submitted by a huge selection of students. If you are given a Q Work would you get stumped? Based on Wikipedia, q can be subdivided into the review of variety, design, house, custom essays custom-essay-writing-help.com and change – mathematics and geometry. What’s Math? Do problems pose http://custom-essay-writing-help.com/buy-essays/ you huge problems? Once you wonder how tall-it […]

Categories: Uncategorized

शरीर पर कई प्रकार के जन्मजात अथवा जीवन काल के दौरान निकले निशान पाए जाते हैं। जिन्हे हम तिल, मस्सा एवं लाल मस्सा के नाम से सुनते आए हैं। भारतीय ज्योतिष शास्त्रों की शाखा समुद्र विज्ञान में शरीर पर मौजूद चिन्हों के आधार पर व्यक्ति के भविष्य का विश्लेषण किया जाता है, शरीर पर पाए गए यह निशान हमारे भविष्य और चरित्र के बारे में बहुत कुछ दर्शाते हैं। कई […]

Categories: Uncategorized

गौत्र के बारे मे कुछ बाते जाने गौत्र शब्द का अर्थ होता है वंश/कुल गोत्र प्रणाली का मुख्या उद्देश्य किसी व्यक्ति को उसके मूल प्राचीनतम व्यक्ति से जोड़ना है उदहारण के लिए यदि को व्यक्ति कहे की उसका गोत्र भरद्वाज है तो इसका अभिप्राय यह है की उसकी पीडी वैदिक ऋषि भरद्वाज से प्रारंभ होती है या ऐसा समझ लीजिये की वह व्यक्ति ऋषि भरद्वाज की पीढ़ी में जन्मा है […]

Categories: Uncategorized

अनाथ किसको कहेगे? * जिसको इश्वर के उपर विश्वास नहि है उसे. * जो संसार मे ओतप्रोत है उसे. * जिसका आत्मविश्वास उठ चुका है उसे.

Categories: Uncategorized

नर्क मे ले जाने वाली त्रिपुटी कोन शी है? * काम,क्रोध ओर लोभ. – इस त्रिपुटीको आलस – प्रमाद सहायरुप होते है.

Categories: Uncategorized

अपना ओर पराया किसे मानना? * मोत के बाद अपने पास से जो छुट जाये वो पराया ओर मोत के बाद जो अपने पास रह जाये वो अपना. * अपना ओर पराया वो पहचानने के लिए शरीर का ओर लागणी क संबंध को कोई ओर की तुलना से अच्छा है उसे मृत्यु के साथ तोला जाय.जो मोत के साथ टीक शके वो अपना.लेकिन वास्तव मे एसा नहि होता. * उस […]

Categories: Uncategorized

नर्क कया है? * सुख ओर शांती का अभाव. * अंत”करळ की दुःखमय व्यवस्था. * अशःपतन. * हिनतम स्थिति.

Categories: Uncategorized

किसको समजाने की कोशिष करनी नहि चाहिए? * जो अपने को ज्ञानी समजता हो. * मुर्ख को. * शंकाशील को. * उपकार पे अपकार करने की वृति जिसमे हो.

Categories: Uncategorized

अंध किस को कहते है? * जो योग्य राह को देख नहि शकता. * सत्य को समजने की कोषिश ना करे. * अपने पुर्वग्रह को मजबुती से पकड रखता है. * अन्य क हित सिचे नहि. * जिसके ह्रदय मे करुळा नहि है वो.

Categories: Uncategorized

Sponsors

  • SEO-SEM-SMM
  • Cheap Web Hosting
  • jeevanshailee
  • Modern B2B Portal
  • Responsive Web Design India Ahmedabad

रामायण बालकाण्ड भाग १४

रामायण बालकाण्ड भाग १४ यहां रामायण के बालकाण्ड,अयोध्याकाण्ड,अरण्यकाण्ड,किष्किन्धाकाण्ड,सुन्दरकाण्ड,लंकाकाण्ड,उत्तरकाण्ड का विवरण […]

रामायण बालकाण्ड भाग १३

रामायण बालकाण्ड भाग १३ यहां रामायण के बालकाण्ड,अयोध्याकाण्ड,अरण्यकाण्ड,किष्किन्धाकाण्ड,सुन्दरकाण्ड,लंकाकाण्ड,उत्तरकाण्ड का विवरण […]

रामायण बालकाण्ड भाग १२

रामायण बालकाण्ड भाग १२ यहां रामायण के बालकाण्ड,अयोध्याकाण्ड,अरण्यकाण्ड,किष्किन्धाकाण्ड,सुन्दरकाण्ड,लंकाकाण्ड,उत्तरकाण्ड का विवरण […]

रामायण बालकाण्ड भाग ११

रामायण बालकाण्ड भाग ११ यहां रामायण के बालकाण्ड,अयोध्याकाण्ड,अरण्यकाण्ड,किष्किन्धाकाण्ड,सुन्दरकाण्ड,लंकाकाण्ड,उत्तरकाण्ड का विवरण […]

रामायण बालकाण्ड भाग १०

रामायण बालकाण्ड भाग १० यहां रामायण के बालकाण्ड,अयोध्याकाण्ड,अरण्यकाण्ड,किष्किन्धाकाण्ड,सुन्दरकाण्ड,लंकाकाण्ड,उत्तरकाण्ड का विवरण […]

Spread the Word - brahm samaj


Brahmin Social Network

Events